अगर CRPF न होती तो शायद लद्दाख और गुजरात का कच्छ, आज हमारे पास नही होता

अगर CRPF न होती तो शायद लद्दाख और गुजरात का कच्छ, आज हमारे पास नही होता

अगर CRPF न होती तो शायद हॉट स्प्रिंग (लद्दाख) का इलाका आज हमारे पास नही होता ।

21 अक्तूबर, 1959 को हॉट स्प्रिंग (लद्दाख) में चीनी हमला हुआ था। CRPF के छोटे से गश्ती दल को वहां पहले से भारी संख्या में मौजूद चीनी फौज ने घेर लिया। हालांकि धोखे से भरे इस हमले में सीआरपीएफ के 10 जवान शहीद हो गए थे, लेकिन उन्होंने चीनी फौज का जिस बहादुरी से मुकाबला किया, वह इतिहास में दर्ज हो गया…

सीआरपीएफ की स्थापना से ही इसका इतिहास वीरता भरे कारनामों और शौर्य गाथाओं से भरा हुआ है।

देश के सबसे बड़े इस केंद्रीय अर्धसैनिक बल ने केवल देश की आंतरिक सुरक्षा को ही मजबूत नहीं किया है, बल्कि दो पड़ोसी राष्ट्रों की सेना को भी मुंहतोड़ जवाब दिया है। पाकिस्तान और चीन को दो अलग-अलग मोर्चों पर टक्कर देकर इस बल ने अपनी बहादुरी का परचम लहराया है।

पहले 21 अक्तूबर, 1959 को हॉट स्प्रिंग (लद्दाख) में हुए चीनी हमले का जवाब दिया और वर्ष 1965 में कच्छ के रण में सरहद पर पाकिस्तान के नापाक मनसूबों को धराशाही कर दिया था।

CRPF की चार कंपनियों ने पाकिस्तान की 51वीं इंफेंट्री ब्रिगेड के 3500 जवानों का मुकाबला कर उन्हें पीछे धकेल दिया। पाकिस्तान ने डेजर्ट हॉक ऑपरेशन के जरिए भारतीय भू-भाग पर कब्जा करने की बड़ी योजना बनाई थी।

देश की आजादी से पहले 1939 में इस CRPF की स्थापना से लेकर अब तक अनेक बड़े अभियानों, जिनमें नक्सल और आतंकी ऑपरेशन शामिल हैं, में भाग लेकर अत्यंत सराहनीय कार्य किया है।

प्रारंभ से ही इस बल को जोखिम भरे कार्य सौंपे जाते रहे हैं। भारत-तिब्बत सीमा पर अक्साई चिन के निकट CRPF को तैनात किया गया। 1953 के बाद लेह (लद्दाख) और इसकी सीमांत चेक पोस्टों पर इस बल के जवान लगाए गए।

अक्साई चिन क्षेत्र के जंगल, दुर्गम इलाके, सुनसान बंजर पहाड़ियां, शरीर को चोट पहुंचाने वाली बर्फीली हवाएं आदि, CRPF जवानों को मातृभूमि की रक्षा करने की राह से अलग नहीं कर पाई।

21 अक्तूबर, 1959 को हॉट स्प्रिंग (लद्दाख) में चीनी हमला हुआ था। इस बल के छोटे से गश्ती दल को वहां पहले से भारी संख्या में मौजूद चीनी फौज ने घेर लिया। हालांकि धोखे से भरे इस हमले में CRPF के 10 जवान शहीद हो गए थे, लेकिन उन्होंने चीनी फौज का जिस बहादुरी से मुकाबला किया, वह इतिहास में दर्ज हो गया।

उन जवानों की शहादत को देश में प्रत्येक वर्ष 21 अक्टूबर को ‘पुलिस स्मृति दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। सितंबर 1959 में लद्दाख में हॉट स्प्रिंग इलाके के आसपास भारी संख्या में चीनी सैनिक जमा थे। CRPF जवानों को आदेश मिला कि वह चौकी चीन के कब्जे से मुक्त कराई जाए।

इसके लिए 70 जवानों की दो टुकड़ियां बनाई गई। एक का नेतृत्व CRPF के डीएसपी करमसिंह और दूसरी टुकड़ी की जिम्मेदारी एसपी त्यागी को दी गई थी। बहादुर सैनिकों ने चौकी को चीनी कब्जे से मुक्त करा लिया, लेकिन उसके बाद दर्जनभर जवानों को चीनी फौज ने पकड़ लिया।

बाद में उन्हें चुशुल एयरपोर्ट के निकट छोड़ दिया गया। बेस कैंप पर पहुंचने के बाद मालूम हुआ कि CRPF के डीएसपी करमसिंह की टुकड़ी के सात जवान जवान गायब हो गए हैं। उन्हें तलाश करने के लिए जवान निकल पड़े।

इस बीच चीनी सैनिकों ने उन्हें बीच रास्ते में घेर लिया। उस लड़ाई में बल के दस जवान शहीद हो गए थे। बर्फ में CRPF जवानों के हथियार जाम हो गए थे, इसके बावजूद उन्होंने चीनी फौज का डट कर मुकाबला किया।।

पाकिस्तान कभी नहीं भुला सकेगा CRPF के उस शौर्य को..


1965 में इस बल की छोटी सी टुकड़ी ने पाकिस्तान की एक पूरी इंफेंट्री को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया था। पाकिस्तान ने जमीन कब्जाने के लिए गुजरात स्थित कच्छ के रण में ‘टाक’ और ‘सरदार पोस्ट’ पर हमला किया था।

सीआरपीएफ की दो बटालियन की चार कंपनियों को वहां भेजा गया। एक तरफ CRPF की चार कंपनियां और दूसरी तरफ तोपखाने एवं बड़े हथियारों के साथ पाकिस्तानी सेना की 51वीं ब्रिगेड खड़ी थी।

इसमें करीब 3500 सैनिक थे। पाकिस्तान ने 14 घंटे में तीन बार हमले का प्रयास किया था। हर बार CRPF के बहादुरों ने उसका मुंहतोड़ जवाब दिया।

इस लड़ाई में पाकिस्तान के 34 सैनिक मारे गए, जिनमें दो अफसर भी शामिल थे। चार सैनिकों को जिंदा पकड़ लिया गया। इसमें CRPF के 6 जवानों ने अपनी शहादत दी थी। बल के अदम्य शौर्य और रण कौशल के चलते हर साल नौ अप्रैल को देश में शौर्य दिवस मनाया जाता है।

Stories