नक्सलियों ने गांव वालों की मदद से किया CRPF कैंप पर हमला, कुछ के मारे जाने की खबर

नक्सलियों ने गांव वालों की मदद से किया CRPF कैंप पर हमला, कुछ के मारे जाने की खबर

Naxals using villagers attack CRPF camp in Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में सोमवार को सीआरपीएफ कैंप पर नक्सलियों के हमले में कम से कम तीन ग्रामीणों की मौत हो गई, पुलिस ने यह जानकारी दी। आईजी बस्तर सुंदर राज और डीआईजी सीआरपीएफ कोमल सिंह सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं।

पुलिस के अनुसार सुकमा-बीजापुर सीमा पर तर्रेम में मोकुर कैंप के खिलाफ ग्रामीण पिछले तीन दिनों से धरना प्रदर्शन कर रहे थे. हालांकि, वे रविवार की रात को लौट गए थे।

“दो दिनों तक विरोध करने के बाद वे कल रात वापस चले गए थे लेकिन सोमवार को वे वापस आ गए। राज्य पुलिस ने कानून व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश की लेकिन वो इसको काबू में नहीं कर पाए और मज़मे में नक्सलियों ने शामिल होकर इसको और उग्र रूप दे दिया।

शिविर में माओवादियों और पुलिस के बीच झड़पें हुईं और गोलीबारी के दौरान कई लोगों के हताहत होने की खबर है। पुलिस ने बताया कि जवाबी फायरिंग में कई नक्सली भी मारे गए हैं।

पुलिस ने कहा कि ग्रामीणों के विरोध को नक्सलियों ने और हवा दी, जिसके कारण झड़प हुई। “ग्रामीणों को सबसे आगे रखा गया लेकिन नक्सलियों ने पुलिसकर्मियों पर गोलियां चला दीं। पुलिस की जवाबी फायरिंग में कुछ प्रदर्शनकारी मारे गए।”

जिला रिजर्व गार्ड (DRG) और राज्य पुलिस वर्तमान में क्षेत्र में कानून व्यवस्था को संभाल रही है।

पिछले महीने इसी कैंप में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में सीआरपीएफ और राज्य पुलिस के कम से कम 20 जवान शहीद हो गए थे। मारे गए लोगों के अलावा, मुठभेड़ में 31 अन्य जवान घायल हो गए थे।

कल ही इस खबर को हर जगह पहुँचाया गया था की गाँव वाले नक्सलियों के बहकावे में आकर इस कैंप का विरोध कर रहे हैं, लेकिन अपने इरादों को कामयाब न होते देख नक्सलियों ने मासूम गाँव वालों को बलि का बकरा बना कर पीछे से गोली बारी करदी।

LWE