CRPF की पीटी ड्रेस में बदलाव, MHA से मंज़ूरी का इंतज़ार

CRPF की पीटी ड्रेस में बदलाव, MHA से मंज़ूरी का इंतज़ार

PT dress code mentioned in manual changed by DG CRPF

देश के सबसे बड़े केंद्रीय अर्धसैनिक बल, सीआरपीएफ में ड्रैस कोड बदल गया है। अब सिपाही से लेकर अफसर तक, सभी कार्मिक सुबह पीटी के समय एक जैसी पोशाक पहनेंगे।

सोचने वाली बात यह है की क्या पहले जो ड्रेस बना हुआ था वो पूरी तरह से लागू हो रहा था याँ नहीं। क्या ड्रेस कोड सिर्फ जूनियर अधिकारीयों और अन्य रैंक तक सिमित रह जाएगा याँ फिर CRPF DG से लेकर निचे तक सभी इसे अपनाएंगे।

गर्मियों में पीटी के दौरान या खेलों के आयोजन के लिए सभी कर्मी काले रंग के शॉर्ट्स व नीले रंग की राउंड नेक टी-शर्ट के ड्रेस कोड में रहेंगे। महिला अधिकारी और जवान काले रंग की ट्रैक पैंट और नीले रंग की राउंड नेक टी-शर्ट पहनेंगी।

इसी तरह सर्दियों के लिए भी अलग से ड्रेस कोड जारी किया गया है। सर्दियों में नीले रंग का ट्रैक सूट व नीले रंग की टोपी रहेगी। अगर ज्यादा सर्दी है तो इस टोपी की बनावट ऐसी होगी कि जिससे सिर और कान कवर हो सकें। सर्दी में नीले रंग की जैकेट और विंडशीटर पहनी जा सकता है। ड्रेस का फैब्रिक पॉलिएस्टर या कॉटन वाला रहेगा। जूतों का रंग, यह भी बदल गया है। अब सभी कर्मी नीले व काले रंग के जूते पहनेंगे। काले व नीले रंग का वैरिएशन भी चल सकता है।

सीआरपीएफ के एक अधिकारी बताते हैं कि ड्रेस के बारे में कोई फैसला केंद्रीय गृह मंत्रालय ले सकता है। बल का एक्ट एवं दूसरे नियम संसद द्वारा पारित किए गए हैं, इसलिए उनमें बदलाव का अधिकार गृह मंत्रालय के पास है। कोरोना काल में यह आदेश जारी होने का मतलब कुछ समझ नहीं आ रहा।

कुछ अधिकारियों द्वारा इस फैसले को आईपीएस अधिकारियों का NFFU वाले केस में हार बताया जा रहा है और बल के अधिकारीयों को निचा दिखने के लिए किया गया है, जिसका वह विरोध करते हैं। एक DAGO अधिकारी का कहना है यदि समान ही करना है तो IPS को भी सब कुछ समान करना चाहिए क्यूंकि वह भी UPSC द्वारा ली गयी परीक्षा से समतुल्य पद पर चयनित होकर आते है।

एक रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी बताते हैं कि ये सब खुद को अफसर दिखाने के लिए किया गया था। उस वक्त आईपीएस नीली टोपी पहनते थे, वही टोपी दूसरे अधिकारी भी पहनने लगे। सिपाही और हवलदार खाकी रंग की टोपी पहनते थे। चूंकि सीआरपीएफ, कश्मीर, नक्सल और उत्तर पूर्व के जोखिम भरे इलाकों में भी ऑपरेशन करती है, इसलिए वहां अलग रंग वाली टोपी किसी बड़े खतरे को न्यौता दे सकती थी। नतीजा, छोटे-बड़े सभी कार्मिकों की टोपी का रंग नीला कर दिया गया।

मौजूदा समय में जीओ यानी राजपत्रित अधिकारी पीटी के दौरान सफेद शॉर्ट्स, सफेद शर्ट स्लीव रोल्ड अप या सफेद टी-शर्ट पहनते हैं। इनके साथ सफेद रंग के जूते और सफेद जुराब पहनना अनिवार्य है। एसओ यानी सबऑर्डिनेट अफसर भी सफेद रंग की शॉर्ट्स और सफेद रंग की ट्वील हाफ स्लीव शर्ट पहनते हैं। सफेद रंग के कैनवस शूज व सफेद जुराबें पहनी जाती हैं।

अंडर ऑफिसर और सिपाहियों के लिए रेजिमेंटल मुफ्ती यानी ड्रेस का जो रंग तैयार किया गया था, उसके मुताबिक सफेद पैंट, सफेद शर्ट ट्वील व कैनवस शूज पहनने होते हैं। ग्राउंड पर इन कर्मियों को खाकी पैंट, सफेद रंग की टी शर्ट, खाकी शॉर्ट्स और कॉटन वेस्ट पहननी पड़ती है।

अब नए आदेशों के मुताबिक सीआरपीएफ में पीटी या खेलों के लिए सभी कार्मिकों की एक जैसी ड्रेस रहेगी।

फिलहाल इस आदेश को लागु करवाने के लिए MHA के आदेश का इंतज़ार है और यदि यह लागु होता है तो इसके सकारात्मक याँ नकारात्मक परिणाम तो समय ही बताएग।

General